खूबसरत पड़ोस वाली भाभी की चुदाई 1

devar bhabhi sex
Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां
loading...

सभी दोस्तो को हर्ष का नमस्कार में फिर आज आप के लिए नई कहानी के साथ हाजिर हूं।
यह कहानी 8 महीने पहले की है मेरे घर के पास ही एक भाभी रहने आई उसके साथ ही उसकी 2 साल की बच्ची भी थी जबसे वो हमारे घर के पास रहने आई मेरी नजर तब से उसके ऊपर थी उसका गोरा रंग भूरे बाल सुन्दर चेहरा अच्छी और बड़ी आंखें उसकी लम्बाई 5 फिट 3 इंच थी उसका फिगर 36-30-36 था उसकी चूचियां बहुत सुंदर और गोल साईज में थी उसकी गांड़ लहराती हुई चुलबुली थी। मेरी गली में हर आदमी उसे पाना चाहते थे मगर किस्मत मेरी लगी वह बहुत मिलनसार और रहन-सहन में फैशनेबल थी। वह एक निजी कंपनी में काम करती थी मगर बच्चा होने के बाद बच्चे की परवरिश के कारण उसने जॉब से रिजाइन दे दिया। उसका पति एक सरकारी ऑफिस में काम करते थे जो की दूसरे शहर में रहते थे

loading...

इसलिए उसका पति हफ्ते में 2 दिन ही घर पर आता था। उसका नाम टीना था आप लोग सोच रहे होगे की उसकी सुंदरता की भी में ज्यादा ही तारीफ कर रहा हूं। लेकिन सच में वह बहुत सुंदर थी में उसके करीब जाने लगा क्योंकि वो मेरी पड़ोसी थी तो उसका मेरे घर आना जाना लगा रहता था तो हमारी बातचीत हो जाती थी। बाद में हमारी अच्छी दोस्ती भी हो गई में भी अक्सर उसके घर जाता था जब मेरे पास समय रहता एक बार जब में उसके घर गया तो उसने मुझे बच्चे को संभालने के लिए कहा (भले ही वो सो रहा था)

वह घर का कुछ समान लेने मार्केट गई थी मैने हा कहा में उसके घर में अकेला था तो सोचा क्यों उसका घर देखा जाए उसके घर में घूमते हुए में एक कमरे में गया वहां बहुत सारी अच्छी चीजे पड़ी थी मैने वहा रखा एक दराज खोला तो उसमें एक कंडोम पड़ा था शायद उसका पति लाया हो फिर उसके बेडरूम में गया तो वहा मुझे कुछ गंदे कपड़े जो धोने के लिए रखे होगे उसने कुछ सेक्सी ब्रा और पेन्टी एक नाइटी और कुछ अन्य कपड़े थे .

मैने उसकी पेंटी को उठा कर सूंघा क्या मस्त खुशबू आ रही थी जिससे में मदहोश हो रहा था मैने वापिस उसकी पेंटी जहां पड़ी थी वहीं रख दी और आगे मैने वो देखा जिसकी में कल्पना भी शायद करता मुझे एक डिल्डो वाइब्रेटर दिखा शायद वह अपनी पति कि गेर हाजिरी में वह अपनी चुद की आग इससे ठंडी करती है।

और उस समान के साथ एक टेबलेट पड़ा था मैने उसे ओपन कर उसकी और उसके पति कि सेक्स चैट पड़ी मगर मुझे ऐसा लगा ये गलत है किसी की पर्सनल मेसेज नहीं देखने चाहिए मगर मैने उसके चेट में उसके पति का लंड कि फोटो देखी तो उसके पति का लंड बहुत छोटा था में सोच रहा था कि सुंदर औरत को छोटे लंड वाला पति मिला जब ही उसके घर में डिल्डो पड़ा है।

फिर में वापिस अपनी जगह पर आकर बैठ गया थोड़ी देर में भाभी भी आ गई और वहा से में अपने घर अागया एक दिन ऐसा हुआ कि पास ही मार्केट से पैदल घर अारहा था कि रास्ते में मुझे भाभी दिखी साथ ही गोद में उसकी बच्ची भी थी और दोनों हाथ में सामान था। इसलिए ये सोच कर में भाभी की मदद करने उनके पास गया और कहा क्या भाभी पैदल जा रहे हो इतना सामान लेकर मुझे बोल दिया होता तो में गाड़ी से लेकर चलता आप को।

भाभी ने कहा मार्केट पास ही था तो सोचा पैदल ही लेकर आजाऊ सामान दो मैने कहा लाओ भाभी सामान में लेकर चलता हूं घर मगर उसने मना कर दिया नहीं बहुत भारी है में आप को कोई तकलीफ़ नहीं देना चाहती मगर मेने अपनी दोस्ती की कसम दी तब उसने मेरी बात मानी वह अपनी बच्ची को गोदी में से उतारने के लिए जैसे ही झुकी लेकिन बच्ची आसानी से गोदी में से उतरने के लिए तेयार नहीं थी सारी दोस्तो बताना ही भूल गया उसने क्या पहना था।

उसने दुपट्टे के साथ एक गहरा वी-कट सलवार पहना था। जैसे ही उसने बच्ची को नीचे उतारा बच्ची ने उसके सलवार के एक किनारे को पकड़ लिया और उसे नीचे खींच दिया क्योंकि उसके दोनों हाथ में सामान थे इसलिए जब तक उसने वापिस दुपट्टे को पहना जब तक मैने उसके दोनों चूचियों के बीच की लकीर और क्या गोरी चूचियां थी जो बहार आने के लिए मचल रही थी। उसने काले रंग कि ब्रा पहनी थी उसकी आधी चूचियां मुझे दिख रही थी

जैसे तैसे में अपने आप को कंट्रोल कर रहा था। मैने उसका सामान उठाया और उसने बच्ची को वापिस गोद में लिया और हम घर की तरफ चल दिए  जब हम उसके घर पहुंचे फिर से बच्चे को नीचे उतारने के लिए झुकी ताकि दरवाजा खोलने के लिए चाबी निकाल सके मगर फिर से उसकी बच्ची ने इस बार सलवार पकड़ खींचा तो उसके कुछ ऊपर के बटन खुल गए उसी हालत में उसने दरवाजा खोला और अपनी बच्ची को अंदर ले गई मैने उसका सामान किचन में रखा वह अपनी बच्ची को सुलाने की कोशिश कर रही थी वह कुछ समय में सो गई बच्ची को सुलाने के बाद वहा से उठ कर मेरे पास आई और कहा आप यहां बैठो में चेंज कर के आई में सोफे पर बैठा मगर मैने देखा कि उसने अपने बेडरूम का दरवाजा ठीक से बंद नहीं किया है

में थीरे से दरवाजे के पास गया और अंदर झांककर देखा तो उसने अपने कपड़े पूरे उतार दिए थे वो रूम में नंगी खड़ी आइने में अपने आप को देख रही थी उसके बूब्स चमक रहे थे में उनको देख कर हैरान था कि क्या मस्त बड़े चूचियां थी चूचियों के ऊपर गुलाबी निपल्स और भी सुंदर लग रहे थे उसने एक हाथ से अपनी चूचियां सहलाई और दूसरे हाथ की उंगली को चुद के अंदर बहार करने लगी जिससे उसकी तेज चलती सासो की आवाज आ रही थी।

उसी समय मैने भी अपना लंड पेंट में से निकाला और थीरे से मुठ मारने लगा मगर उसके मस्त बदन को देख कर अपने आप पर काबू नहीं रख सका और एक आवाज के साथ मेरा भी थोड़ा बहुत माल निकलने लगा उसने आवाज सुन ली थी वह तुरंत मेरे पास आई और मेरे लंड को कस कर पकड़ लिया उसने तुरंत मेरे माल को लंड के अंदर ही रोक लिया मैने उसके चेहरे को देखा तो उसके चेहरे पर एक मुस्कान थी भाभी ने कहा तुम आज कल के लड़के बहुत कामुक होते हो तुम्हे पता नहीं किस समय और कब क्या करना है ये तुम्हारा माल बहुत ज्यादा कीमती है इसे यूहीं बेकार मत करो


दोस्तो आगे क्या होगा ये में नेक्स्ट भाग में पता चलेगा की भाभी सच में चदाई चाहती है या सिर्फ मुझे परेशान कर रही है आप को मेरी नई कहानी कैसी लगी और नॉनवेज स्टोरी . कॉम का शुक्रिया जो मेरी स्टोरी आप तक पहुंचाते है जिससे आप फेन का प्यार मुझे मिलता रहता है और एक बात दोस्तो कई मेरे फेन मुझसे आंटी या भाभी के नंबर मागते है तो सॉरी फेन में किसी के नंबर नहीं दे सकता जैसे आप मेरे दोस्त है वो भी मेरे दोस्त है और दोस्तो को बदनाम नहीं किया जाता और उनको कोई तकलीफ़ हो ये दोस्ती का उसूल नहीं है इसलिए कुछ चीजे प्रायवेट रहे तो अच्छा है
next part 2
[email protected]

भाभी की चूत की मुट्ठी की फिर उनको कसके चोदा

Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां
loading...

हेल्लो दोस्तों मैं सुमित आप सभी का नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है। मै मुम्बई में रहता हूँ। मेरी उम्र 22साल की है। मैं अभी M.Com कर रहा हूँ। मेरा कद 5.6 फ़ीट का हूँ। मेरा लंड 10 इंच का है। मै देखने में बहुत ही स्मार्ट तो नही हूँ। जब भी कोई लड़की देखता हूँ। मेरा लंड खड़ा और कड़ा हो जाता है। मन करता हैं इसको अभी के अभी चोद डालूँ। लेकिन लड़कियों को पटा कर चोदने के मजा ही कुछ और होता हैं। लड़कियों के बूब्स ही हमे ज्यादा पसंद है। मै उसी लड़की को पटाता हूँ। जिसकी बूब्स के निप्पल बाहर से ही बड़े बड़े दिख रहे हो। अब तक मैंने कई सारी लड़कियों की चूत की गहराई अपने लंड से नापी है। लड़कियों की चूत की गहराई कितनी भी कम हो। मेरा लंड खाने के बाद उसे 10 इंच की  हो जानी है। लड़कियों को मेरा मोटा बड़ा लंड बहुत पसंद है। वो हमेशा मेरे लंड को खाने के लिए परेशान रहती है। दोस्तों अब मै अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों मैं एक मिडिल परिवार का लड़का हूँ। मेरे बड़े भाई का नाम अरविन्द है। मेरे भाई सॉफ्टवेयर इंजीनिअर हैं। वो नोएडा में रखते है। घर भी कभी कभी आते हैं। घर पर सिर्फ मेरे पिता जी मै और मेरी माता जी ही रहती हैं। मेरे पापा एक सरकारी मास्टर है। अब वो रिटायर्ड हैं। मैं जब भी मौका पाता हूँ। भाभी की ब्रा पैंती से खेलता हूँ। मै अक्सर रोज रात को भाभी की ब्रा को अपने रूम में ले जाकर मुठ मारता था। सारा माल अपनी सुन्दर भाभी जी की ब्रा पर जमा कर देता था। दोस्तों मैं अब आपको अपने भाभी के बारे में बताता हूँ। किस तरह से मैंने उनकी चूत की गहराई नापी। दोस्तों मैं अब आपको अपनी भाभी के बारे में बताता हूँ। मेरी भाभी बिल्कुल देखने में सोनाक्षी सिन्हा की तरह है। लेकिन थोडा वो मोटी हैं। उनका गांड काफ़ी शानदार हैं। उनका फिगर 38, 34, 40 हैं। उनकी बूब्स बहुत ही गोरी है। उनके निप्पल का रंग भूरा हैं। एकदम इंग्लिश मैम की तरह हैं।

उनके होंठ बिल्कुल गुलाब के जैसे है। उनके होंठो से जैसे रस टपक रहा होता है। मैं तो उनके होंठो को देखता जब वो लिपस्टिक लगाती थी। मन करता बलात्कार ही कर डालूँ। लेकिन रिश्तो की दीवार ने रोक रखा था। मेरा लंड बस खड़ा होके रह जाता था। मै दिन रात बस उनको छोड़ने के ख्याल में डूबा रहता था। आखिर मेरे शब्र का फल मिलने वाला था। बहुत दिन हो गया था भईया आये नहीं थे। भाभी की भी चूत में हंगामा मचा हुआ था। लेकिन हमें क्या पता था कि आग दोनों तरफ लगी है। मै एक दिन बैठा ब्लू फिल्म देख रहा था। मेरे पीछे के शीशे में सब कुछ दिख रहा था। मेरा लंड खड़ा हो गया था। मुझे नहीं पता था किभाभी सब कुछ देख रही है। कुछ देर बाद भाभी ने  मेरा फोन माँगा। उन्होंने ने अपने रूम में मेरा फ़ोन ले जाकर जो ब्लू फिल्म पड़ी थी देखने लगी। अपनी चूत में ऊँगली कर रही थी। मै ये सब खिड़की से देख रहा था। उस दिन मम्मी पापा कोई घर पर नही थे। मै और भाभी ही थे। भाभी ने दरवाजा नही बंद किया था।

मै दरवाजा खोल के अंदर घुस गया। भाभी अपनी चूत में उंगली डाले हुई थी। मैंने देखा तो बोली खुजली हो रही थी। मैंने हँसते हुए कहा. कहो तो मैं खुजा दूं। बोली नहीं तुम रहने दो। मैंने कहा किसी से नही कहूंगा। इतना कहकर मैं उनके पास बैठ गया। सहलाने लगा। तो बोली. तेरे भइया बहुत दिन हो गया नही आये हैं। तो खुजली हो रही थी। मैंने चूत पर हाथ रखकर खुजाने लगा। मैंने उनके पेटीकोट के ऊपर से ही खुजला रहा था। भाभी शरमा रही थी। मेरा लंड उनकी चूत में घुसने को रॉकेट की तरह खड़ा हो गया। मैंने कुछ देर तकक चूत को खुजाते हुए। भाभी को किस करने लगा। भाभी ने कोई विरोध नहीं किया। मेरी हिम्मत और बढ़ गई। मै भाभी की होंठो का रस पी रहा था। मै इतना जोश में हो गया कि मुझे पता ही नही चल रहा था। मैं क्या कर रहा हूँ। मै भाभी की होंठो को काट काट कर चूस रहा था। भाभी की होंठो की सारी लिपस्टिक मैंने चूस चूस कर साफ़ कर दी। लेकिन अब तो उनके होंठ और भी मस्त लग रहे थे। मैं भाभी की होंठो को चूस चूस कर लिपस्टिक जैसा लाल लाल कर दिया।

भाभी जी भी अब गरम हो रही थी। अब वो भी मेरे होंठों को चूंसने लगी। हम दोनों एक दुसरे का होंठ बड़े मजे ले लेकर आराम से चूस रहे थे। मै भाभी की चूत को खुजला रहा था। भाभी भी धीरे धीरे गरम हो गयी। वो मेरा हाथ अपनी चूत में दबा रही थीं। हम दोनों अभी चुम्मा चाटी ही कर रहे थे। मैंने ब्लू फिल्म फ़ोन में लगा दिया। दोनों देख भी रहे थे। और चुम्मा का काम को जारी रखा था। उनके होंठ बहुत ही सॉफ्ट बिल्कुल गुलाब की पंखुड़ी की तरह थी। मैंने अपना हाथ उनकी चूत से उठा कर उनके बूब्स पर रख दिया। उनके ब्लाउज के ऊपर से ही चूंचियों को दबाने लगा। उनकी चूंचियां बहुत ही मुलायम थी। लग रहा था जैसे मैं किसी रबड़ के बने हों। मै उनकी चूंचियों को देखने को बेकरार हो गया। उनका ब्लाउज मैंने निकाल दिया। अब वो ब्रा पहने थी। उनकी लाल रंग की ब्रा उनके गोरी बदन पर बहुत ही आकर्षक लग रही थी। मैंने उनके ब्रा में हाथ डाल कर कुछ देर चूंचियों को दबाते हुए किस किया।

उनकी ब्रा मुझे चूंचियां दबाने में परेशान कर रही थी। मैंने ब्रा को ऊपर खिसका कर दोनों मम्मो को आजाद कर दिया। अब उनके दोनों मम्मो को मैं गौर से देख रहा था। उनके होंठो का रसपान कर। मै उनके चूंचियों को पीना चाहता था। मैंने उनकी ब्रा को निकाल कर रख दिया। मैंने दोनों हाथों में भाभी का एक एक मुसम्मी लेके खेलने लगा। भाभी की चूत में खलबली मची हुई थी। भाभी अब अपने चूत में ऊँगली डाल रहीथी। मै भाभी की दोनों चूंचियों को मुँह में भर लिया। भाभी के चूंचियों को पीने में बहुत मजा आ रहा था। मैं उनकी चूचियों को दबा दबा के पी रहा था। बीच बीच में निप्पल भी काट लेता था। वो गर्म होकर कहने लगती. “ओह्ह्ह्ह माँ… अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह…. उ उ उ…चूसो चूसो….और चूसो…मेरे मम्मो  को…अच्छे से चूसो” अपनी चूत में उंगली करके जोश में कह रही थी। मैं भी और दबा दबा के पीता और निप्पल को काट रहा था। भाभी और जोर जोर से अपनी चूत में उंगली कर रही थी। उनकी उंगली पर कुछ थूक जैसा लगाथा। मुझे उन्होंने अपनों हाथों से चाटने को कहा। मैंने उंगलियां साफ़ कर दी। उनकी चूत का माल बहुत ही अच्छा लग रहा था। मै सारा का सारा चाट गया। मैने उन्हें खड़ा किया और उनकी साडी निकाल दिया। उनकी पेटीकोट भी निकाल दी। उनको सिर्फ पैंटी में कर दिया। वो चुदाई के लिए तड़प रही थी। मैंने भी अपना सारा कपड़ा निकाल कर नंगा हो गया। मैंने अपने पैंट से अपने प्यारे से लंड को निकाला और अपनी प्यारी भाभी की हांथो में दे दिया। भाभी मेरे लंड को देखकर खुश हो गई। कहने लगी. बाप रे!!!! इतना बड़ा मोटा लंड। आज तो चुदने में बहुत मजा आएगा। मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी।

मुझे बहुत मजा आ रहा था। मै कह रहा था। चूसो चूसो….और चूसो…मेरे मम्मो  को…अच्छे से चूसो” चूस साली रंडी आज मेरे लंड को। आज तुझे चोदने का मौका मिला है। वो मेरे लंड को मुठ मार मार के चूस रही थी। मैंने कहा. भाभी आज मैं अपने लंड से तुम्हारी चूत की गहराई नापता हूँ। भाभी बोली. मेरी चूत की गहराई तेरा ये लंड नहीं नाप सकता। मै उनके मुँह में ही लंड को पेल रहा था। भाभी के गले के अंदर तक मेरा लंड जा रहा था। भाभी खाशने लगी। मैंने अपना लंड मुँह से उनके निकाल लिया। उनकी पैंटी के ऊपर से ही मै सूंघते हुए ऊँगली करने लगा। उनकी चूत भाभी के ऊँगली करने से गीली हो चुकी थी। मैंने धीरे से पैंटी को उतार कर फेंक दिया। भाभी की मस्तानी चूत को देखकर मेरे लंड में पानी आ गया। क्या चूत थी उनकी लाल लाल बिलकुल सेब की तरह थी। मकिने अपना मुँह उनकी चूत  पर रखकर चूत को चाटने और पीने लगा। चूत को चाटते ही वो मुझे बहुत ही जोर से मेरा सर दबा देती। जब मैं उनकी चूत के दाने को मुँह में लेकर दांतो से काटता तो वो मेरे सर को अपने चूत में घुसा देती। मै बार बार उनकी दाने को काट रहा था। मैंने अपना जीभ उनकी चूत में अंदर तक डाल कर उनके सारे माल को चाट गया। भाभी. “…. माँ के लौड़े तेरी बुआ की चूत….चाट और चाट मेरी चूत को!!! और अच्छे से पी मेरी चूत!!” .आआआआअह्हह्हह… आज मेरी चूत को अच्छे से पी लो मेरे देवर जी!!!” आज तो तुम मेरे अच्छी से चुदाई करो।

मैंने चूत चाटन बंद किया। मैंने अपनी अंगुलियां उनकी चूत में करने लगा। मै  अँगुलियों से चोदने लगा। मेरा लंड कड़ा हो रहा था। वो कहने लगी. “देवर जी ! अब मुझसे कंट्रोल नही हो रहा है. सी सी सी सी…. प्लीस जल्दी से मेरी चुद्दी [चूत] में लंड डाल दो और जल्दी से चोदो!!”। मै अब अपनी पांचों अंगुलिगों को उनकी चूत में डाल रहा था। वो“……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….”कर रही थी। मैंने अपने हाथ को उनकी चूत में डाल दिया। उनकी चूत की गहराई सच में बहुत ज्यादा थी। रोज वो अँगुलियों से मुठ मारती थी। आज मैं अपने हाथ से उनकी चूत में मुठ मार रहा था। भाभी.
“…..आआआआअह्हह्हह…डाल दो पूरा हाथ … आज मेरी चूत फाड़ फाड़कर इसका भरता बना डालो जाननननन….”। मैंने कुछ देर तक किया। उनके चूत के जूस से मेरा पूरा हाथ गीला हो गया। भाभी कहने लगी.सुमित कब मुझे चोद डाल। साले डाल दे अपना गरम गरम लौड़ा मेरी चूत में। मेरी चूत की खुजली शांत कर दे। मै अपने लंड को मुठियाते हुए उनकी चूत से सटा दिया।मै. “ले ले ले!! रंडी!! आज जी भर कर चुदवा ले!! आज मेरा मोटा लंड खा ले रंडी!!!   मैंने अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया।

मेरा लंड आसनी से चूत में घुस गया। उनकी चूत को मैं चोदने लगा। मैंने उनकी एक टांग को उठा के कंधे पर रखकर अपने लंड को उनकी चूत में डाल कर चोदने लगा। वो चिल्लाती रही। “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..”। आराम आराम से चोदो। मुझे दर्द हो रहा है। मैं अपनी स्पीड में कोई कमी नहीं की। उनकी छूट ने पानी छोड़ दिया था। मेरा कंधा दर्द करने लगा। मैंने उनका पैर अपने कंधे से उतार कर उनको झुकाया। और अपने लंड को उनके चूत में घुस दिया। उनकी चूत से घच्च ……घच्च …पच्छ की आवाज आ रही थी। मैंने उन्हें अपने लंड को साफ़ करने को दिया। वो मेरे लंड पर लगे सारे माल को पी गई। मैंने उन्हें घोड़ी बनाया। और चोदने लगा। मैं खूब जोर जोर से चुदाई करने लगा। वो चिल्ला रही थी। उन्हें भी मजा आ रहा था। वो कहने लगी. “उ उ उ उ उ “…अई…अई….अई….अई….इसस्स्स्स्स्स्स्स्……उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….चोदोदोदो…मुझे और कसकर चोदोदो दो दो दो”। मै अब और जोर जोर से चोद रहा था। उनकी चूत का बुरा हाल हो रहा था। वो अपनी चूत को मलने लगी। लेकिन वो भी अपना गांड आगे पीछे करके चुदवा रही थी। मैंने अपना पूरा लंड उनकी चूत में डाल डाल कर चोद रहा था।

वो भी अपनी गांड हिला हिला के चुदवा रही थी। मैं लेट गया अब वो मेरे लंड को अपनी चूत से सटा कर बैठ गई। धीरे धीरे से अपनी चूत को ऊपर नीचे करने लगी। मेरा लंड तो बस खड़ा खड़ा उनकी चुदाई कर रहा था। उनकी से कुछ माल मेरे लंड से होता हुआ। मेरे लंड की जड़ तक बह रहा था। भाभी ने चाट करसाफ़ किया। मैंने भाभी को लिटाया। उनकी दोनों टांगो के बीच में लैंड करके टांगो को उठा कर चोदने लगा। उनको मै आगे पीछे करके चोद रहा था। वो सिसकारियां ले रही थी। बीच बीच में बोलल भी रही थी।“…आआआआअह्हह्हह…चोदो चोदो…. आज मेरी चूत फाड़ फाड़कर इसका भरता बना डालो। मैंने भी चोद चोद के उनकी चूत का कचड़ा कर दिया। भरता भरता बोल रही थी। मैंने उनकी चूत की चटनी बना डाली। उनकी चूत लाल लाल खून की तरह हो गई। मुझे अब उनकी चूत में मजा नहीं आ रहा था। मैंने उनकी गांड मारने को कहा।वो डर गई। कहने लगी. तेरे भईया ने एक बार मारी थी।

बहुत दर्द हुआ था। तेरा लंड भी बड़ा है। ना बाबा ना मुझे गांड नहीं मरवानी है। बहुत दर्द होता है। मैंने कहा आराम आराम से मारूंगा। कुछ नहीं होगा थोड़ा सा भी दर्द नहीं होगा। मैंने झुका कर उनके गांड के छेद पर अपना लंड टिका दिया। मैंने धक्का मारा लेकिन मेरा लंड अंदर नहीं घुसा। मैंने लंड पर थूक लगाया और जोर से धक्का मारा। भाभी की चीख निकल गई। वो . “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ.“…….उई. .उई..उई…….माँ ….अहह्ह्ह्हह…” चिल्लाने लगी। मैंने और धीरे धीरे से उनकी गांड मारने लगा।

कुछ देर बाद मैंने एक और झटका लगाया। इस बार मेरा पूरा लंड उनकी गांड में घुस गया। वो जोर जोर से चिल्लाने लगी। पूरा कमरा उनकी चींखो से भर गया। लेकिन मैंने उनकी गांड मारनी नहीं बंद की। उनका दर्द कम होते ही वो भी उछल उछल के मरवाने लगी। मैंने भी अपनी स्पीड बढाई और जोर जोर से उनकी गांड चोदने लगा। भाभी.“हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… चोदो चोदो…. आज मेरी गांड फाड़ फाड़कर इसका हाबड़ा पुल बना डालो। मैं भी जल्दी जल्दी उनकी गांड मारने लगा। अब मै भी झड़ने वाला हो गया। मैंने अपना लंड उनकी गांड से निकाल कर उनके मुँह में रख कर मुठ मारने लगा। कुछ देर भाभी ने मुँह खोल कर मेरे माल गिरने का इंतजार की। मेरा माल अब छूटने ही वाला था। मैंने अपने लंड को भाभी की मुयः में रख कर सारा माल गिरा दिया। भाभी मेरा सारा माल पी गई। मेरे लंड को भी चूसने लगी। सारा माल मेरे लंड चाट लिया। हम दोनों नंगे ही रहे। बाद में हमने कई बार चुदाई की। दोनों बॉथरूम में नहाते हुए सेक्स किया। बाद में अपने कपड़े पहने। अब हम लोग रोज रात को चुदाई करते है। हम दोनों एक ही रूम में सोते हैं। भाभी भी बहुत खुश रहती है। मुझे अपने पति जैसा मानती हैं। मैं अब रोज रात उनके साथ सेक्स करता हूँ। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर दे।

फ्रॉक बाली भाभी को की मस्त चूत की चुदाई

Sex Kahani, Hot Sexy Story, XXX Story, Adult Story, रोजाना पढ़िए हिंदी में हॉट चुदाई की कहानियां
loading...

डिअर फ्रेंड आज मैं आपको एक कहानी शेयर कर रहा हु, ये कहानी मेरे पडोश में रहने बाली लेडी का है, बड़ी ही मस्त चीज़ है यार, गोरा बदन बड़ी बड़ी टाइट और उभरी हुयी चूचियाँ, किसी का भी मन डोल जाए देख के अगर आपने एक बार देख लिया तो बिना मुठ मारे या तो चुदाई किये आप रह नहीं सकते.

मैं भी फ़िदा हो गया और छोड़ दिया ये वाक्या कैसे हुआ वो मैं आपको बता रहा हु, पर मैं पहले अपने बारे में बता दू, मेरा नाम शेखर है, दिल्ली में रहता हु, मेरी शादी अभी नहीं हुई है, पर मैंने चूत का रस चाट चुका हु कई बार, अब तो उसी माल पे हाथ साफ़ करता हु जो बड़ी ही जबरदस्त हो, आज ही मेरा ये ख्वाइश पूरा हो गया,

रश्मि भाभी मेरे फ्लैट के ऊपर बाली फ्लोर में रहती है, एक दिन मैं कोचिंग से आकर आराम कर रहा था, तभी उनके यहाँ जो काम करने बाली आती है वो बेल्ल बजाई, और बोली भैया आपको ऊपर बाली भाभी बुला रही है, और वो निचे चली गयी. मैं ऊपर जाके के बेल्ल बजाया तो भाभी निकली, मैं हैरान रह गया वो फ्रॉक पहनी थी, गजब की सुन्दर लग रही थी, फ्रॉक भी घुटने के ऊपर तक ही ही, गजब की गोरी गोरी पैर, चूच टाइट, गले के पास से बीच में चूच का दरार, गजब की लग रही थी, मैंने कहा हां जी भाभी आपने बुलाया, बोली हां, देखिये ना आपके भैया गुडगाँव चले गए है, और गैस सिलेंडर चेंज करना है, मेरे से लग नहीं रहा है, आप मेरी मदद कर दीजिये प्लीज. मैंने कहा इसमें प्लीज की कोई बात नहीं, चलिए और मैंने किचन में दाखिल हो गया,

मैंने सिलेंडर बहार निकला और भरा हुआ सिलेंडर लगा दिया, वो बोली आपका बहुत बहुत धन्यबाद, तो मैंने कहा नहीं जी, ये तो मेरा पडोशी होने का फ़र्ज़ है, आपके आक्म आऊँ तो भाभी बोल उठी अच्छा और आप किस किस काम में आ सकते हो, तो मैंने मुस्कुरा के बोला आपका कोई भी काम होगा मैं हाज़िर हु, भाभी बोली मैं भी यही आशा रखती हु, बैठिये मैं आपके लिए कोल्ड ड्रिंक्स लाती हु, मैं सोफे पे बैठ गया, वो फ्रीज़ से ठंडा निकले मैं तो उन्हें ही निहार रहा था, क्यों की आजतक मैं किसी औरत को फ्रॉक पहने नहीं देखा था, बड़ी ही गजब लग रही थी.

वो फिर सोफे पे ही बैठ गयी, मैंने कहा भाभी आप फ्रॉक में बड़े ही हॉट लग रहे हो, तो भाभी बोली अच्छा हॉट लग रही हु तो जल मत जाना, मैंने कहा मैं तो जल जाना पसंद करूंगा अगर आप जलाने के लिए राज़ी हो जाओ तो. तो भाभी बोली अच्छा जी, क्या बात है कोई गर्ल फ्रेंड नहीं है, मैंने कहा नहीं भाभी कोई नहीं है, तभी तो भाभी बोली, कोई बात नहीं आज मैं गर्ल के तरह लग भी रही हु फ्रॉक में आज मैं आपकी गर्ल फ्रेंड बन जाती हु, मैंने कहा ये तो मेरा सौभाग्या होगा, बोली कहो फिर गर्ल फ्रेंड को क्या करना है?

मैंने कहा अगर सच में मेरी गर्लफ्रेंड होती तो मैं सबसे पहले किश करता तो वो बोल उठी तो मना किसने किया, मैं बोली ना मैं आपकी गर्ल फ्रेंड हु, मैंने भाभी के गाल पे एक हल्का से चुम्मा लिया, वो बोली बस इतना ही, मैंने कहा नहीं ये तो सुरुआत है. फिर मैंने उनके होठ पे किश किया वो मुझे नशीली निगाहों से देखने लगी, मैं अपना होशो हवाश खो दिया, और मैंने उनको अपने बाहों में भर लिया, और जल्दी जल्दी किश करने लगा. वो भी मुझे पकड़ ली और सोफे पे ही मुझे धक्का दे दी और मेरे ऊपर चढ़ के किश करने लगी, वो अपनी मैंने उनके फ्रॉक को ऊपर उठाया और चूतड़ पकड़ के मैंने अपने लंड के करीब ला के धक्का लगाया तभी भाभी बोली अच्छा जी पेंटी के ऊपर से ही घुसा दोगे क्या? मैंने कहा हां जी मेरा लंड काफी टाइट हो गया है ये अभी किसी भी चीज़ को फाड़ सकता है. और दोनों और भी जोर से एक दूसरे को पकड़ लिए.

भाभी बोली चलो बेड रूम में फिर मैं भहि को अपने गोद में उठाया और बेड पे जाके पटक दिया और दोनों पैर को फैलाकर पेंटी निकाल दी, और मैं वही करने लगा जो की मेरा फेवरेट है, बूर का रस पीना, ओह्ह्ह ओह्ह्ह्ह ओह्ह्ह नमकीन नमकीन मज़ा गया ओह्ह्ह ओह्ह्हो ओहू.

भाभी भी मोइन करने लगी इस्स्स इस्स्स्स आऊच उह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह हाईईईईईईई चाटो चाटो प्लीज चाटो जीभ अंदर फिराओ, मैं वही करने लगा, मैंने थोड़ा ऊपर चढ़ा और चूच को दबाया भाभी बोली, फोरक खोल देती हु, वो फिर बैठ के फ्रॉक खोल दी, मैंने ब्रा का हुक खोलते ई टूट पड़ा, कभी एक चूची कभी दूसरी चूची मुह में ले रहा था निप्पल काट रहा था, कभी हिला रहा था, वो और भी सेक्सी होने लगी.

फिर भाभी बोली अब और मत तड़पाओ प्लीज, चोद दो मुझे, फाड़ दो मेरे बूर को, मैंने भाभी के पैर को ऊपर उठाया और बीच में लंड रख के पेल दिया, मेरा लंड बड़ा ही मोटा और लंबा हो गया था, भाभी बोली ये हुई ना बात, मस्त लंड है, और वो गांड उठा उठा के चुदवाने लगी, मैंने पेले जा रहा था, वो चुद रही रही उनका बूर पानी पानी हो गया था मैंने लंड निकाला और सारा पानी चाट गया, फिर लंड को बूर के मुह पे रख के कस के धक्का दिया और अब जोर जोर से जल्दी जल्दी, वो हाय है है करने लगी, मैंने चोद रहा था वो चुदवा रही थी मैं ऊपर से धक्के देता वो निचे से धक्के देती, आखिर कार एक लम्बी आह लेके भाभी मुझे पकड़ ली मैंने भी जोर जोर से चालु रखा और मेरा वीर्य सारा उनके बूर में समा गया और एक साथ शांत हो गए.

दोनों एक दूसरे को पकड़ के करीब १० मिनट तक सोये रहे, फिर भहि मेरे होठ पे किश की, और बोली कल दोपहर को फ्री रहोगे? मैंने कहा हां, तो बोली आ जाना, सिर्फ ६ बजे के बाद मत आना क्यों की आपके भैया आ जाते है जब तक वो घर पे नहीं है मैंने तुम्हारी हु,

loading...

Online porn video at mobile phone


चुत में कड़क लौड़ा फासालंड को बढाये के चूत की गरमीसभी दोस्तों के साथ मिलकर अपनी सगी बहन को chodaसंभोग कथा मराठितबेटा अपनी बीवी को नहीं चोदता मुझे चोदा सेक्स शायरीantarvasna mahnje Kay astभाई बहन सास दमाद ओपेन सेकसी बिडीओdss hindi kahani sexysisterसास दामाद भाई बहन ओपेन सेकसी बिडीओ हिनदीBahin bhaisaxAnterwasna school girls ko lolepop ke bahane Lund chusaya Hindi sex storyXxx sex story condom Mami Chachi sirfhindisex b f videoanatबहन चूत माँkarwa choth ke din chudai dever ne kiहिदी सैकसी सुहागरात मे पराये मरद से चुदवायाहिंदी माँ बाप कि चुदाई बेटे ने देखी सेक्स कहाणीApna dudh nikalne wale orat hindi sax storyBagiche k jhadiyo me meri chudaimamaji and mammy XXX khanichachari badi behan ki chut ki seal todiमराठी पऱनय कहानीmera friend ny porn storymera friend ny porn storymeri.vidwa.mammyji.uar.bade.papa.ki.cuddai.kahani.hindididi ko ghar m guma guma k choda.comdidi ko khade hokar mutte dekha sex storyमराठी कामुक कथाXxx sexy com vaif ke mom ke sath video dawload full sasu maaचोदने की कहानीचूत लड की कहनीpapa k draevar na home sax vasana story hindimaa or beta honeymoon xxx kahaniTichar ki xxx chudai sahiry and kahniMaa ko pregnent kiya fir shadi ki maa+beta+hindicudai+storyमैडम स्टूडेंट से चुदवायाचुदवाएगीशहरों की चुदाई कहानीxxx didi bhai rakhsabandhan kahani.compati patni xxx shuagraat shairyभाई बहन सास दमाद ओपेन सेकसी बिडीओantarvasna mahnje Kay astसेक्सी waqiya सेक्स जोक्स हिंदी मअवैध संबंध ....sex story पत्नी को चुदवाकर बनाया वेश्याभाई ने मेरेको चोदपरिवार में चुदाई कहानीगरमागरम सेक्सचुदाई करके बहन को गर्भवती बनाया बहन के कहने परkarwa choth ke din chudai dever ne kididi ko khade hokar mutte dekha sex storyभाई ने चोदा कहानीgurumastram.netमाँ को मोबाइल से फंसा के चोदा बुढ़ापे सेक्स कथा मराठी बायकोDiya aur bati hum imli sex storiesदेवर भाभी सेक्सी कहानियां हिंदी में नॉनवेजyou taba sas ne damad ka land chusiShadi se pahle sasurji se manayi suhagratबहन भाईsex 18 सालTeen din tak ghodi bana ke chodadesi gay sex kahani sote hue lund ka uthnaगर्लफ्रेंड सेक्सी डॉट कॉममैंने अपनी मम्मी को चुदते हुए देखा फूफा से – 2 : सच्ची सेक्स कहानीबीबी को दूसरे मर्द से चुदवायाdasi capil ke sex store hindMarathi nagdi mami nonveg storyApna dudh nikalne wale orat hindi sax storyपड़ोसन सेक्सहिदी सेकसी कहानी गाड माराचुदवाएगीoral sex story in hindiSex story चुदाई देखी bahandost ki mummy NE karz ke badle chut marwaiमराठी चुदाई स्टोरीसेक्स कहानी दर्द के बहाने चुत पे तेल लगवाया नोकरी के लिये माँ को सेक्स स्टोरीमाँ के घर की चुदाईSex ki sachchi kahani vidhwa kiसास दामाद मा बेटे ओपेन सैकसी बिडीओशिल बंद बहन की चुत चुदाईमेरे नौकर ने चोदाpeli pela wala sexy aur girls ke boor se khoon nikalata hai जबरदस्ती चुदाई की हिंदी कहानी गाओं की होली कीjawani mai chudai bhaijaan seभईया पापा तो तेल लगा के चोदते है